X
    Categories: राष्ट्रीय

अलगाववादियों द्वारा बंद के आह्वान से घाटी में जनजीवन प्रभावित

अलगाववादियों के बंद के आह्वान से मंगलवार को घाटी में जनजीवन बुरी तरह प्रभावित रहा. सभी स्कूल, कॉलेज समेत दुकानें  अन्य कारोबारी प्रतिष्ठान भी बंद रहे. बैंकों  सरकारी दफ्तरों में हाजिरी कम देखने को मिली. सड़कों पर से यातायात भी गायब रहा. श्रीनगर तथा बडगाम में बुधवार को भी स्कूल कालेज बंद रहेंगे.

श्रीनगर के पुराने शहर में प्रशासन ने दशा की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए पाबंदियां लगाई थी.सभी संवेदनशील इलाकों में जवानों की अलावा तैनाती भी की गई थी. इस बीच दक्षिणी कश्मीर में दशा काफी तनावपूर्ण देखने को मिले. यहां बंद का बहुत ज्यादा ज्यादा प्रभाव रहा. उत्तरी  मध्य कश्मीर से भी ऐसी ही खबरें मिली.

दरअसल अलगाववादी नेता गिलानी, मीरवाइज और यासीन मलिक के ज्वाइंट रेजिस्टेंस लीडरशिप (जेआरएल) ने बंद की कॉल दी थी, जिसे ध्यान में रखते हुए गिलानी, मीरवाइज  यासीन मलिक को पहले से ही नजरबंद कर दिया गया है. रविवार को दक्षिणी कश्मीर में 13 आतंकवादियों  चार लोकल लोगों के मारे जाने के विरोध में बंद का आह्वान किया गया था. इस दौरान सेना के तीन जवान भी शहीद हुए थे जबकि 100 से अधिक प्रदर्शनकारी घायल हुए थे. दक्षिणी कश्मीर को छोड़कर घाटी में 48 घंटों के बाद मंगलवार को हाई स्पीड इंटरनेट से प्रतिबंध हटाया गया है. बंद से रेल सेवा भी प्रभावित हुई हैं.

Loading...

शोपियां चलो कॉल से सुरक्षा कड़ी
जेआरएल की ओर से बुधवार को शोपियां चलो की कॉल दी गई है. इसके मद्देनजर सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए गए हैं. बारामुला  शोपियां जिले में स्कूल  कॉलेज बंद रखने का निर्णय लिया गया है.कश्मीर यूनिवर्सिटी ने भी बुधवार को होने वाली परीक्षाएं स्थगित कर दी हैं. साथ ही कक्षाएं बंद रखने की घोषणा की है.

loading...
Loading...
News Room :

Comments are closed.