Wednesday , September 19 2018
Loading...

110 किलोमीटर दूर कई हिंदुस्तानियों के सिर में मारी गई थी गोली

इराक के मोसुल में मारे गए 39 हिंदुस्तानियों में से कई लोगों के सिर में गोली मारी गई थी.आईएसआईएस के आतंकवादियों ने बड़ी बेरहमी से इस घटना को अंजाम दिया था. सोमवार को अमृतसर में लाए गए 7 लोगों के शवों को देखने के बाद मीडिया रिपोर्टस में दावा किया गया कि इन हिंदुस्तानियों के सिर में गोली लगी थी. इन हिंदुस्तानियों के मृत्यु प्रमाण लेटर में भी साफ लिखा गया है कि इनकी मौत की वजह सिर में गोली लगना थी.
Image result for isis

सर्टिफिकेट में यह भी लिखा है कि ये लोग वाडी आगब में मारे गए थे जोकि मोसुल से 110 किलोमीटर दूर नाइनवेह टाउनशिप का इंडस्ट्रियल क्षेत्र है. ये सर्टिफिकेट बगदाद में इंडियन दूतावास द्वारा 28 मार्च को जारी किये गए हैं. जिस पर असिस्टेंट कमिश्नर उमेश यादव के हस्ताक्षर हैं. इन दस्तावेजों में यह नहीं बताया गया कि यह मौतें कब हुईं. मारे गए लोगों के रिश्तेदारों ने बताया कि उन्होंने आपस में 15 जून 2014 को आखिरी बार बात की थी. इसलिए माना जा रहा है कि ये मौतें 15 जून से 20 जून के बीच हुई हैं.

इराक में जिन 39 हिंदुस्तानियों में एक हरजीत मसीह की जान बच गई थी, उन्होंने भी यह बोला था कि ये मौतें 15 से 20 जून के बीच हुईं. हालांकि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज  वी के सिंह ने हरजीत के बयान की पुष्टि नहीं की थी. वीके सिंह ने बोला था मसीह 39 हिंदुस्तानियों के ग्रुप का सदस्य नहीं था.

Loading...
Loading...
loading...