Wednesday , September 19 2018
Loading...

दवाओं की कीमतों में बढ़ोतरी

कैंसर और दिल संबंधी रोगों के इलाज संबंधी  एंटीबायोटिक समेत 869 दवाओं तथा दो तरह के कोरोनरी स्टेंट के दामों में 3.44 फीसदी की बढ़ोतरी हो गई है.

नेशनल फार्मास्यूटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी (एनपीपीए) की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक, ग्लूकोज  सोडियम क्लोराइड समेत आठ आइवी फ्लूइड की अधिकतम कीमतों में भी संशोधन किया गया है. कीमतों में बढ़ोतरी के बाद बेअर मेटल स्टेंट की मूल्य अब 7,923 रुपये  ड्रग इल्यूटिंग स्टेंट (डीईएस) की मूल्य 28,849 रुपये होगी.

Loading...

आपको बता दें कि एनपीपीए ही राष्ट्र में नियंत्रित थोक दवाओं के मूल्यों का निर्धारण  उनमें संशोधन करती है. इन कीमतों को लागू करने  राष्ट्र में दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी भी उसी की है.

loading...

हाल ही में नेशनल फार्मास्यूटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी (एनपीपीए) ने यह आदेश जारी किया था कि कोई भी दवा कंपनी एक वर्ष में किसी भी दवा या मेडिकल उपकरण की कीमतों में 10 प्रतिशत से ज्यादा की बढ़ोतरी नहीं कर सकेगी. अथॉरिटी का कहना था कि अगर कंपनियां इस आदेश को नहीं मानतीं तो उनका लाइसेंस रद्द होगा  उनके विरूद्ध कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी. .

यह आदेश एनपीपीए ने अपनी उस रिपोर्ट के बाद जारी किया था, जिसमें खुलासा हुआ था कि प्राइवेट हॉस्पिटल अपने यहां दवा के डिब्बों पर ज्यादा एमआरपी लिखवाते हैं  भारी मुनाफा कमाते हैं.

Loading...
loading...