Sunday , September 23 2018
Loading...
Breaking News

भारतीय टीम के बाद अब IPL में भी यो यो टेस्ट

नई दिल्ली : भारतीय टीम में सिलेक्शन का पैमाना बने यो यो टेस्ट ने अब आईपीएल में अपनी भी दस्तक दे दी है पहले ये समाचार आ रही थी कि विराट कोहली की टीम ने ही इसे जरूरी बनाया है, लेकिन अब रॉयल चैलेंजर्स बेंगुलुरु के अतिरिक्त तीन  टीमों ने भी इसे अपने यहां लागू कर दिया हैभारतीय टीम में इस टेस्ट को पास करने के बाद ही टीम में स्थान मिलती है इस टेस्ट के कारण बहुत ज्यादा समय तक सुरेश रैना  युवराज सिंह भारतीय टीम में स्थान नहीं बना पाए

Image result for भारतीय टीम के बाद अब IPL में भी यो यो टेस्ट

इस बार आईपीएल के 11वें सीजन में चार टीमों ने यो यो टेस्ट को मंजूरी दी है भारतीय एक्सप्रेस के मुताबिक बेंगलुरु के अतिरिक्त मुंबई इंडियंस, राजस्थान रॉयल्स  किंग्स इलेवन पंजाब में यो यो टेस्ट को मंजूरी दी है मजे की बात यह है कि यो यो टेस्ट के कारण टीम से बाहर रहे युवराज की टीम पंजाब ने भी इस टेस्ट अपना स्टेंडर्ड बना लिया है

Loading...

हालांकि अभी दूसरी टीमों जैसे सनराइजर्स हैदराबाद, कोलकाता नाइट राइडर्स, दिल्ली डेयरडेविल्स  चेन्नई सुपर किंग्स ने अपने खिलाड़ियों के लिए परंपरागत फिटनेस टेस्ट का विकल्प ही चुना है

loading...

रिपोर्ट के मुताबिक मुंबई इंडियंस की टीम के खिलाड़ियों का यह टेस्ट आयोजित किया जा चुका हैइसमें खिलाड़ियों को यो यो टेस्ट में 14.5 सेकेंड का लेवल हासिल करने का टार्गेट दिया गया

ऐसे होता है यो यो टेस्ट
यो यो टेस्ट के लिए खिलाड़ियों को खुद को व्यवस्थित रूप से स्पीड अप करने की आवश्यकता होती है इसमें खिलाड़ियों को अलग-अलग तरह से दौड़ना, निश्चित समय में दौड़ना  निश्चित समय में दौड़ को समाप्त करना होता है इस परीक्षण के बाद खिलाड़ियों को स्कोर दिया जाता है नए खिलाड़ियों के लिए बेसिक स्कोर करना महत्वपूर्ण होता है यो यो स्केल पर, स्कोर 16.1 होना चाहिए

खिलाड़ियों की फिटनेस परखने के लिए यो-यो टेस्ट ‘बीप’ टेस्ट का एडवांस वर्जन है 20-20 मीटर की दूरी पर दो लाइनें बनाकर कोन रख दिए जाते हैं एक छोर की लाइन पर खिलाड़ी का पैर पीछे की ओर होता है  वह दूसरी की तरफ वह दौड़ना प्रारम्भ करता है हर मिनट के बाद गति  बढ़ानी होती है  अगर खिलाड़ी वक्त पर लाइन तक नहीं पहुंच पाता तो उसे दो बीप्स के भीतर लाइन तक पहुंचना होता है अगर वह ऐसा करने में नाकाम होता है तो उसने फेल माना जाता है 90 के दशक में मोहम्मद अजहरुद्दीन, रॉबिन सिंह  अजय जडेजा को छोड़कर अन्य खिलाड़ियों को 16-16.5 का स्कोर करना होता था

Loading...
loading...