Saturday , February 23 2019
Loading...

बिहार-ओडिशा सहित कई राज्यों में प्रभाव हुआ

सुप्रीम न्यायालय द्वारा एससी-एसटी एक्ट में परिवर्तन के विरोध में लोग सड़कों पर उतर आए हैं. दलितों आदिवासियों के उत्पीड़न में सीधे गिरफ्तारी  केस दर्ज कराने पर रोक लगाने के निर्णय के विरूद्ध दलित संगठनों ने हिंदुस्तान बंद किया है. इसका प्रभाव बिहार, ओडिशा  पंजाब सहित राष्ट्र के कई राज्यों में देखने को मिल रहा है. Related image

8.19 AM: बिहार: विभिन्न दलित संगठनों ने एससी एसटी एक्ट में परिवर्तन को लेकर प्रदर्शन किया, बिहार के आरा में ट्रेन रोकी गई. साथ ही सुपौल, दरभंगा, मोतिहारी  अररिया में भी प्रदर्शन की समाचार है.

8.10 AM: निश्चित तौर पर एससी-एक्ट प्रोटेक्शन एक्ट के विरूद्ध पुर्नविचार याचिका दायर करनी चाहिए- अभिषेक मनु सिंघवी, राज्यसभा सांसद, कांग्रेस

8.05 AM पंजाब: हिंदुस्तान बंद के तहत सोमवार को 10वीं  12वीं की परीक्षाएं रद्द कर दी गई हैं. किसी अप्रिय घटना से बचने के लिए CBSE ने परिक्षाएं रद्द कर दी हैं. अमृतसर में एतिहातन दुकाने बंद दिखाई दी.

6.00 AM ओडिशा: सुप्रीम न्यायालय के निर्णय के विरूद्ध ओडिशा के संबलपुर में  प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन रोकी

सरकार के अंदर भी था विरोध

पिछले हफ्ते केंद्र की राष्ट्रीय जनतांत्रिक साझेदारी (राजग) के दलित और आदिवासी सांसद, लोकतांत्रिक जनता पार्टी अध्यक्ष रामविलास पासवान  केंद्रीय सामाजिक न्याय मुंत्री थावरचंद गहलौत के नेतृत्व में पीएम नरेंद्र मोदी से भी मिले थे  विरोध जताया था. गहलौत ने शुक्रवार को इस मुद्दे पर विरोध जता रहे सभी संगठनों से भी अपना प्रदर्शन वापस लेने की अपील की थी. राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग  राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने भी केंद्र गवर्नमेंट से पुनर्विचार याचिका दायर करने का आग्रह किया था.
loading...