Wednesday , November 14 2018
Loading...

SC/ST एक्ट के विरूद्ध हिंदुस्तान बंद करने का, सुप्रीम कोर्ट का फासला

सुप्रीम न्यायालय के अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार निवावरण अधिनियम (एसएसी/एसटी एक्ट) के विरूद्ध दलितों ने किया हिंदुस्तान बंद का आव्हान राष्ट्र में दलितों के साथ हो रहे अत्याचार को लेकर दलित नेताओं ने न्यायालय के इस निर्णय के विरोध में 2 अप्रेल सोमवार को हिंदुस्तान बंद के लिए अपील की है वहीं दलितों के इस बंद को विपक्ष के नेता राहुल गाँधी ने भी समर्थन किया है

Image result for SC/ST एक्ट पर आज हिंदुस्तान बंद, गवर्नमेंट की पुनर्विचार याचिका

वहीं दलित  आदिवासी संगठनों का कहना है कि यह कानून दलितों के विरूद्ध प्रयोग होने वाले जातिसूचक शब्दों  हजारों वर्षों से चले आ रहे अत्याचार को रोकने में मददगार रहा है, लेकिन सुप्रीम न्यायालय के निर्णय के बाद अब दलितों को निशाना बनाना  सरल हो जाएगा

Loading...

सुप्रीम न्यायालय में एडवोकेट संतोष कुमार का कहना है कि शीर्ष न्यायालय ने राष्ट्रीय क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के उन आकड़ों पर विचार नहीं किया जो बताती हैं कि 2014 में दलितों के ख़िलाफ़ 47064 क्राइम हुए यानी औसतन हर घंटे दलितों के ख़िलाफ़ पांच से ज़्यादा (5.3) क्राइम हुए हैं अपराधों की गंभीरता को देखें तो इस दौरान हर दिन दो दलितों की मर्डर हुई  हर दिन औसतन छह दलित महिलाएं (6.17) दुष्कर्म की शिकार हुई हैं राष्ट्रीय क्राइमरिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार 2004 से 2013 तक 6,490 दलितों की हत्याएं हुईं  14,253 दलित स्त्रियोंके साथ दुष्कर्म हुए हैं

loading...
Loading...
loading...