Wednesday , September 19 2018
Loading...

प्रधानाध्यापक ने क्यों की रिटायरमेंट से एक दिन पहले आत्महत्या

ग्राम मुख्य  एजुकेशन विभाग के अधिकारियों के घूस मांगने  उत्पीड़न से त्रस्त प्राथमिक विद्यालय के एक बुजुर्ग प्रधानाध्यापक ने सेवानिवृत्त होने से एक दिन पहले शनिवार को CM के नाम ब्लैक बोर्ड में सुसाइड नोट लिखकर विद्यालय कक्ष में ही आग लगाकर आत्महत्या कर ली मामला यूपी में ललितपुर जिले के तालबेहट थाना क्षेत्र का है पुलिस अधीक्षक डॉ ओ पी सिंह ने रविवार को बताया कि सेवानिवृत्त होने से एक दिन पूर्व सिरसखेड़ा गांव के प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक ओमप्रकाश पटेरिया ने विद्यालय के ब्लैक बोर्ड में CM के नाम सुसाइड नोट लिखकर कक्ष के अंदर ही आग लगा ली उन्हें गंभीर अवस्था में झांसी रेफर किया गया, लेकिन रास्ते में ही उन्होंने दम तोड़ दियाImage result for आत्महत्या

 

एसपी ने बताया कि बुजुर्ग अध्यापक ने अपनी सुसाइड नोट में ग्राम मुख्य मोहन सिंह, अपने एक सहकर्मी  मध्यान्ह भोजन (मिड डे मील) के प्रभारी कपिल दुबे पर घूस मांगने  न देने पर प्रताड़ित करने के आरोप लगाए हैं इस मामले की जांच सीओ  संबंधित थानाध्यक्ष कर रहे हैं जो जांच में दोषी पाया जाएगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा विद्यालय पहुंचे गांव के कुछ ग्रामीण बताते हैं कि आत्मदाह करने वाले बुजुर्ग अध्यापक ने सुसाइड नोट में CM से मिड डे मील काम से शिक्षकों को मुक्त करने, करप्शन से मुक्ति दिलाने के अतिरिक्त पदावनति किए गए शिक्षक  शिक्षिकाओं के बारे भी लिखा है वह मूलरूप से सेमरखेड़ा गांव के निवासी थे

Loading...

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक प्रधानाध्यापक ने लिखा, ‘मेरी मृत्यु के लिए ग्राम मुख्य को जिम्मेदार माना जाए, जो सिर्फ हराम के रुपया चाहता है मेरा बहुत सा धन एमडीएम खाते में पड़ा है एमडीएम का जिम्मेदार ऑफिसर महाभ्रष्ट है 17 अगस्त 2016 को 1000 ले गया था 26 दिसंबर 2016 को पुन: एक युवक के साथ आया ‘ प्रधानाध्यापक ने आगे लिखा है, ‘रुपया न देने पर गलत रिपोर्टिंग करके वेतन रोकवा दिया एसएमसी के जिम्मेदार मुख्य के कहने पर चलता है इस कारण आजतक स्वेटर की धनराशि के चेक का भुगतान नहीं हुआ है अंत में CM से प्रार्थना है कि प्रधानाध्यापक को एमडीएम के काम से मुक्त करो, विभाग के करप्शन से मुक्ति दिलाओ, जिन भाई-बहनों की पदावनति की गई है, यह पूर्णतया गलत है जब उनका प्रमोशन हुआ था, तब प्रमोशन में भी आरक्षण लागू था ओमप्रकाश पटेरिया प्रधानाध्यापक सेमरखेड़ा ‘

loading...
Loading...
loading...