Wednesday , September 19 2018
Loading...

भाजपा सांसद सावित्री बाई फूले ने अपने गवर्नमेंट के विरूद्ध खोला मोर्चा

लखनऊ: प्रदेश की राजधानी लखनऊ के कांशीराम स्मृति उपवन में रविवार (1 अप्रैल) को ने अपने ही गवर्नमेंट के विरूद्ध मोर्चा खोल दिया है उन्होंने इंडियन संविधान  आरक्षण बचाओ महारैली की आरंभ की महारैली की आरंभ डॉ भीमराव रामजी अंबेडकर  कांशीराम की मूर्ति पर फूल अर्पित कर की इंडियन संविधान  आरक्षण बचाओ महारैली में उन्होंने कहा, ‘मैं सांसद रहूं या ना रहूं, लेकिन अब चुप नहीं बैठूंगी ‘ उन्होंने अपने संबोधन में कांशीराम का खुलकर जिक्र किया, लेकिन किसी भी भाजपा नेता का नाम खुलकर नहीं लिया

Image result for भाजपा सांसद सावित्री बाई फूले

दलित घोड़े पर नहीं चढ़ सकता है- सावित्री फूले
सम्बोधन देते हुए साध्वी सावित्री भाई फूले ने बोला कि जिस संविधान की बदौलत न्यायपालिक, कार्यपालिका चल रही ही है, आज तक वो संविधान क्यों नही लागू किया जा रहा है? दलितों की सामाजिक स्थिति का जिक्र करते हुए उन्होंने बोला कि अगर कोई दलित भाई घोड़े पर सवार होकर विवाह करने जाता है तो उसे मौत के घाट उतार दिया जाता है आज प्रदेश में बाबा साहेब की मूर्तियां तोड़ी जा रही हैं महारैली में मौजूद लोगों में जोश भरते हुए भाजपा सांसद ने बोला कि हम कब तक चुप होकर सबकुछ बर्दाश्त करते रहेंग? जो लोग बहुजन समाज का नाश करने में लगे हैं वो हमारी लड़ाई कभी नहीं लड़ेंगे हमें अपनी लड़ाई हमें खुद लड़नी होगी

Loading...

बाबा साहेब की मूर्तियां तोड़ने के विरूद्ध कार्रवाई क्यों नहीं- सावित्री फूले
बाबा साहेब की मूर्तियों को तोड़ने को लेकर साध्वी सावित्री बाई फूले ने बोला कि जो लोग मूर्तियां तोड़ रहें हैं, उनके विरूद्ध कड़ी कार्रवाई क्यों नही हो रही है? उन्होंने भाजपा गवर्नमेंट के निर्णय  चुप्पी को लेकर गंभीर सवाल उठाए इस रैली को लेकर उन्होंने बोला कि संविधान  आरक्षण बचाओ महारैली के जरिए यूपी के सभी जिलों में आंदोलन किए जाएंगे उन्होंने देशभर के बहुजन समाज से अपील की कि वे इस आंदोलन में शामिल हों

loading...

मैं बाबा साहेब  कांशीराम की बेटी हूं- भाजपा सांसद 
आगे उन्होंने बोला कि आज संविधान में समीक्षा की बात की जा रही है, कल संविधान बदलने की बात होगी साध्वी सावित्री फूले बाई ने खुद को बाबा साहेब  कांशीराम की बेटी बताई पार्टी से बगावत करने को लेकर उन्होंने बोला कि मैं आने वाले दिनों में सांसद रहूं या ना रहूं, लेकिन इन चीजों को  बर्दाश्त नहीं किया जाएगा उन्होंने बहुजन समाज के लोगों से अपील की कि वे ज्यादा से ज्यादा संख्या में सांसद चुनकर संविधान की रक्षा करें उन्होंने बोला कि इसी मकसद से मैंने इस आंदोलन की आरंभ की है

Loading...
loading...