X
    Categories: राष्ट्रीय

जानिए अप्रैल फूल के बारे में

आज 1 अप्रैल है नए वित्तीय साल की आरंभ के साथ ही इसे अप्रैल फूल दिवस के रूप में भी मनाया जाता है आज का दिन एक दूसरे के साथ हंसी मजाक के लिए ही होता है इस दिन लोग आपस में एक दूसरे को हंसी मजाक में मूर्ख बनाते हैं  लेकिन इसकी अच्छाई यह है कि अन्य दिनों की तरह इस दिन मूर्ख बना आदमी नाराज या गुस्सा नहीं होता

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि कुछ राष्ट्रों जैसे न्यूजीलैंड, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका में ऐसा मजाक केवल दोपहर तक ही किया जाता था ब्रिटेन के अखबार जो अप्रैल फूल पर जो मुख्य पृष्ठ निकालते हैं वे ऐसा सिर्फ पहले (सुबह के) संस्करण के लिए ही करते हैं जबकि फ्रांस, आयरलैंड, इटली, दक्षिण कोरिया, जापान रूस, नीदरलैंड, जर्मनी, ब्राजील, कनाडा  अमेरिका में जोक्स का सिलसिला दिन भर जारी रहता है

Loading...

कहा जाता है कि 1 अप्रैल  मूर्खता के बीच सबसे पहला मामला चॉसर के कैंटरबरी टेल्स (1392) में पाया गया जबकि दूसरी ओर एक कहानी नन्स प्रीस्ट्स टेल के अनुसार इंग्लैण्ड के राजा रिचर्ड द्वितीय  बोहेमिया की रानी एनी की सगाई की तारीख 32 मार्च घोषित कर दी गई जिसे वहां की जनता ने हकीकत मान लिया  सभी मूर्ख बन गए  तब से 32 मार्च यानी 1 अप्रैल को अप्रैल फूल डे मनाया जाने लगा एक घटना 1915 की है, जिसमें जर्मनी के लिले हवाई अड्डा पर एक ब्रिटिश पायलट ने विशाल बम फेंका इसे देखकर लोग इधर-उधर भागने लगे, देर तक लोग छुपे रहे लेकिन बहुत देर बाद भी जब कोई धमाका नहीं हुआ तो लोगों ने वापस लौटकर उसे देखा तो वहां एक बड़ी फुटबॉल थी, जिस पर अप्रैल फूल लिखा था तब से ही अप्रैल फूल बनाने का सिलसिला चल पड़ा जो अब भी जारी है

loading...
Loading...
News Room :

Comments are closed.