Wednesday , November 21 2018
Loading...
Breaking News

पिछले 3 वर्षों में डाटा टैरिफ में आई 93 फीसदी की कमी

दूरसंचार विभाग ने बताया की 2017 से लेकर पिछले 3 वर्षों में मोबाइल इंटरनेट रेट में 93 फीसदी की कमी आई है. वहीं, प्रति उपभोक्ता डाटा यूसेज में 25 गुना की बढ़ोतरी हुई है. दूसरसंचार विभाग (DoT) ने ट्वीट में बताया की सितम्बर 2017 में टैरिफ सबसे सस्ते रहे.2014 में 33 रुपये प्रति जीबी से यह 21 रुपये प्रति जीबी पर आ गया. इसका मतलब यह की टैरिफ में 93 फीसदी की कमी आई.

Image result for पिछले 3 वर्षों में डाटा टैरिफ में आई 93 फीसदी की कमी

2016 में हुई डाटा वॉर की शुरुआत:रिलायंस जियो के आने से 2016 में डाटा वॉर की शुरआत हुई.कंपनी ने इस वर्ष कीमतों को 4 रुपये प्रति जीबी प्रति दिन तक ला दिया. गिरते हुए मोबाइल इंटरनेट रेट्स के कारण लोग डाटा यूसेज अधिक करने लगे. DoT के ट्वीट के अनुसार- प्रति सब्सक्राइबर औसत डाटा यूसेज 25 गुना बढ़ गई. 2014 में यह 62MB प्रति महीना था  2017 में यह 1.6GB प्रति महीना हो गया. हिंदुस्तान में मोबाइल डाटा खपत संसार में सबसे ज्यादा है. यह 1.3 मिलियन जीबी प्रति महीना है. यूएस  चाइना दोनों की डाटा यूसेज मिल कर भी इतनी नहीं है.

Loading...

भारत में Smart Phone का प्रयोग हुआ दोगुना :भारत में Smart Phone का प्रयोग 190 मिलियन से 390 मिलियन यानि की दोगुना हो गया. इसी के साथ 2014 से 2017 के बीच इंटरनेट यूजर्स लगभग 66 फीसदी यानि 251 मिलियन से 429 मिलियन (जून 2017 में) हो गए. राष्ट्र में ब्रॉडबैंड का प्रयोग मार्च 2014 में 61 मिलियन सब्सक्राइबर्स से सितम्बर 2017 में 325 मिलियन तक बढ़ गया.

loading...

ट्राई के लेटेस्ट परफॉरमेंस इंडिकेटर के अनुसार, दिसंबर 2017 के अंत में 445.9 मिलियन इंटरनेट सब्सक्राइबर्स थे. DoT के डाटा के अनुसार इन तिल वर्षों के दौरान राष्ट्र में मोबाइल बेस स्टेशंस में दोगुनी से भी अधिक वृद्धि हुई है. यह मई 2014 में 7.9 लाख से 2017 के अंत में 16.8 लाख हो गए.टेलीकॉम ऑपरेटर्स भारती एयरटेल  रिलायंस जियो ने वित्त साल 2018-19 तक मोबाइल नेटवर्क को फैलाने के लिए 74000 करोड़ रुपये निवेश करने की बात कही है.

Loading...
loading...