Friday , September 21 2018
Loading...

BCCI के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी ने उठाए सवाल

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने राजस्थान के पूर्व डीजीपी अजीत सिंह को एंटी भ्रष्टाचार यूनिट (एसीयू) का प्रमुख नियुक्त किया, लेकिन इसके तुरंत बाद उनकी नियुक्ति पर सवाल उठ गए. दरअसल, इसके पीछे वजह यह मानी जा रही है कि विनोद राय की अध्यक्षता वाली प्रशासकों की समिति (सीओए) ने एसीयू के नये प्रमुख अजीत सिंह की नियुक्ति कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी की सहमति के बिना ही मंजूर कर दी.
Image result for अजीत सिंह की नियुक्ति पर BCCI के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी ने उठाए सवाल

बीसीसीआई के जेनरल मैनेजर (एडमिनिस्ट्रेशन) प्रोफेसर रत्नाकर शेट्टी के कार्यकाल को विस्तार देने के चौधरी के प्रस्ताव को भी दो सदस्यीय समिति ने खारिज कर दिया. ऐसा बोला जा रहा है कि सीओए ने कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी के सिंह के नियुक्ति लेटर पर हस्ताक्षर करने का इंतजार किया, लेकिन उन्होंने हस्ताक्षर से मना कर दिया. चौधरी ने खुद इस बात की पुष्टि की है कि अजीत सिंह की नियुक्ति उनकी मंजूरी के बिना हुई है. इस दौरान चौधरी ने कहा, ‘मैंने मीडिया विज्ञप्ति देखी है. मैं सीओए को जवाब देने जा रहा हूं.

बता दें कि अजीत सिंह राजस्थान कैडर के 1982 बैच के आईपीएस ऑफिसर है जो पिछले वर्ष 30 नवंबर को राजस्थान के शीर्ष पुलिस ऑफिसर के पद से सेवानिवृत हुए थे. वह दिल्ली पुलिस के पूर्व महानिदेशक नीरज कुमार की स्थान लेंगे. नीरज कुमार 31 मई 2018 तक को एसीयू के सलाहकार के रूप में अपनी सेवाएं देते रहेंगे.

Loading...

बीसीसीआई की विज्ञप्ति के मुताबिक, ‘भारतीय पुलिस सेवा में लगभग 36 वर्ष की सेवाएं देने वाले सिंह को करप्शन विरोधी अभियान, खोजी काम  पुलिस व्यवस्था के मामले में बहुत ज्यादाअनुभव है.‘ वह भारतीय प्रीमियर लीग (आईपीएल) प्रारम्भ होने से पहले मुंबई स्थित बीसीसीआई मुख्यालय में अपना कार्यभार ग्रहण करेंगे. विज्ञप्ति के मुताबिक नीरज कुमार को 31 मई 2018 तक एंटी भ्रष्टाचार यूनिट के सलाहकार के रूप में बनाए रखा गया है.

loading...
Loading...
loading...