X
    Categories: राष्ट्रीय

इस महीने रूस से एस-400 हवाई रक्षा प्रणाली खरीद सकता है भारत

संयुक्त राज्य अमेरिका ने बोला है कि हिंदुस्तान ने एक नए अधिनियमित अमेरिकी कानून के साथ चर्चा की है. जिसमें हिंदुस्तान रूस से S-400 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली खरीदेगा. अमेरिकी राज्य विभाग ने सीधे तौर पर नहीं बोला था कि हिंदुस्तान रूस से यह हथियार खरीदेगा.

बता दें कि अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा पर होने वाले 7वें मास्को सम्मेलन में भाग लेने के लिए रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण अगले हफ्ते रूस की यात्रा पर जाएंगी. इस यात्रा पर उनका ध्यान एस-400 मिसाइल सौदे पर होगा. चाइना से जुड़ी करीब 4 हजार किमी लंबी सीमा पर अपनी सैन्य ताकत  बढ़ाने के लिए यह सौदा बहुत जरुरी माना जा रहा है. बता दें कि हिंदुस्तान से पहले चाइना ने रूस से इस मिसाइस सौदे के लिए बात की थी. लेकिन किसी कारण यह डील नहीं हो पाई.

हिंदुस्तान की यह वार्ता करीब दो वर्ष से चल रही है. एंटी एयरक्राफ्ट सिस्टम में एक साथ चार मिलाइलों का प्रयोग होता है. सीतारमण 3-5 अप्रैल के बीच रूस में ही रहेंगी. इस दौरन उनकी पूरी प्रयास होगी कि रूस से करीब 40 हजार करोड़ रुपए के एस-400 मिसाइल सौदे पर बात बन जाए.एस-400 एस-300 का अपडेट वर्जन है. यह एस-300 से बहुत ज्यादा बेहतर है. इसे बहुत ज्यादालंबी रेंज की मिसाइल माना जाता है.

Loading...

इस मिसाइल की एक खास बात यह भी है कि ये पाक की शॉर्ट रेंज न्यूक्लियर मिसाइल ‘नासर’ को भी पस्त करने की क्षमता रखती है. पाक अक्सर इस न्यूक्लियर मिसाइल से हमले की धमकियां देता रहा है, लेकिन हिंदुस्तान के पास जल्द ही इसका जवाब देने का साधन होगा.

loading...

बता दें कि लंबी दूरी की रडार के साथ एक साथ 100 से 300 लक्ष्य को ट्रैक करने की क्षमता रखने वाला एस-400 कई तरह के सुपरसोनिक  हाइपरसोनिक मिसाइलों के हवाई खतरे को रोक सकता है. दरअसल, ये रूस के साथ हथियारों को लेकर होने वाली बड़े समझौते में से एक समझौता है.

Loading...
News Room :

Comments are closed.