Tuesday , April 24 2018
Loading...

ड्राइविंग लाइसेंस से ज्यादा गन लाइसेंस

बीहड़  डाकुओं के लिए वैसे भी चम्बल सुर्ख़ियों में बना रहा है वहीँ से एक चौंकानेवाली रिपोर्ट सामने आयी है  चम्बल के मुरैना जिले में महिलाएं ड्राइविंग लाइसेंस से ज्यादा गन लाइसेंस लेने में रूचि दिखारही हैं ऐसा नहीं है कि यहाँ महिलाएं वाहन नहीं चलाती बल्कि दोपहिया , चार पहिया वाहन चलाने के बावजूद भी वह ड्राइविंगलाइसेंस लेने में अपनी रूचि नहीं दिखा रही हैं इनकी अपेक्षा में वह बन्दुक लाइसेंस लेने में अपनी ज्यादारूचि दिखा रही हैं

Image result for ड्राइविंग लाइसेंस से ज्यादा गन लाइसेंस

जिले में स्त्रियों के बदूक लाइसेंस पुरुषों के डाइविंग लाइसेंस से भी अच्छा दोगुना हैंयहाँ तोसरकार की पिंक कोड फ्री योजना भी स्त्रियों को आकर्षित नहीं कर पा रही है  देश में शस्त्र लाइसेंस लेने के मामले में यहाँ की महिलाएं बहुत ज्यादा आगे हैं  एक समस्या यहाँ ये भी है कि महिलाएं दो पहिया , चार पहिया वाहन का उपयोग करने के बावजूद भी अपना ड्राइविंग लाइसेंस लेने के लिए घर से बाहर निकल नहीं रही हैं

यह भी पढ़ें:   अमित शाह मंगलवार से शुरू करेंगे 15 दिवसीय ‘जन सुरक्षा पदयात्रा’
Loading...
loading...

आलम यह है कि 2011 की जनगणना के अनुसार यहाँ 1 लाख 22 हज़ार पुरुषों के पास ड्राइविंग लाइसेंस हैं वहीँ ड्राइविंग लाइसेंसधारी महिलाएं महज़ 2 हज़ार 285हैं  जिले बन्दुक लाइसेंसधारी पुरुषों की संख्या 27 हज़ार है जबकि 1350 स्त्रियों के पास बन्दुक लाइसेंस है 

स्थानीय प्रशासन के मुश्किल कोशिश के बावजूद भी यहाँ सिर्फ 145 स्त्रियों के ड्राइविंग लाइसेंस के आवेदन ही आये हैं जिन में से करीब 10 लाइसेंस बनकर तैयार हैं प्रशासन का कहना है कि जो महिलाएं ड्राइविंग लाइसेंस नहीं ले रही हैं वो वाहन चला रहीं है उन पर कभी भी उचित कार्यवाही की जा सकती है महिलाओं में ड्राइविंग लाइसेंस के लिए प्रति जागरूकता लाने के लिए महिला सशक्तिकरण विभाग के कॉलेजों  सार्वजनिक स्थलों पर जागरूक अभियान चलाया जा रहा है 

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   छत्तीसगढ़ के घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में महिला कमांडो तैनात
Loading...
loading...