Tuesday , April 24 2018
Loading...

2000 में बने थे पहली बार राष्ट्रपति

मास्को : रूस में राष्ट्रपति चुनाव केलिए आज मतदान हुआ इसके जरिए व्लादिमीर पुतिन को लगातार चौथा कार्यकाल मिलने वाला है अधिकारियों ने बताया कि अच्छा खासा मतदान हुआ है जबकि विपक्ष चुनाव में गड़बड़ी का आरोप लगा रहा है पुतिन को नया जनादेश देने के लिए बहुत ज्यादा संख्या में वोटों की आवश्यकता है क्योंकि रूस ब्रिटेन में एक जासूस को जहर दिए जाने को लेकर अलग-थलग पड़ने की स्थिति  नए अमेरिकी प्रतिबंधों का सामना कर रहा है

.

10 करोड़ से अधिक वोटर
पुतिन के विरूद्ध सात उम्मीदवार हैं लेकिन उनके मुख्य प्रतिद्वंद्वी अलेक्सेई नवलनी को कानूनी कारणों को लेकर रोक दिया गया है इस तरह चुनाव नतीजों को लेकर तनिक भी शक नहीं है करीब 10.7 करोड़ रूसी मतदान करने के योग्य हैं लेकिन कुछ विशेषज्ञों ने बोला है कि राष्ट्रपति  पीएम के तौर पर पुतिन का 18 वर्ष के नेतृत्व के बाद मतदाताओं में उनके प्रति उत्साह कम हो सकता हैचुनाव अधिकारियों ने बताया कि दोपहर दो बजे तक करीब 52 फीसदी मतदान हुआ लेकिन नवलनी ने आरोप लगाया कि चुनाव में धांधली हुई है

पुतिन 2000 में राष्ट्रपति चुने जाने के बाद से संसार के सबसे बड़े राष्ट्र पर अपना पूरा अधिकार कायम कर रखा है उन्होंने टीवी को गवर्नमेंट के नियंत्रण में रखा है 65 वर्षीय पूर्व केजीबी ऑफिसरने चुनाव प्रचार में रूस के विश्व के एक बड़ी शक्ति होने पर जोर दिया चुनाव पूर्व सम्बोधन में अपने अपराजेय नये परमाणु हथियारों पर जोर दिया

यह भी पढ़ें:   मालदीव के राष्ट्रपति ने यूरोपीय राजनयिकों से मिलने से किया मना
Loading...
loading...

मास्को में अपना वोट डालते हुए पुतिन ने बोला कि उन्हें राष्ट्रपति पद पर बने रहने का अधिकार देने वाले किसी नतीजे से खुशी होगी मीडिया से बात करने वाले ज्यादातर लोगों ने बोला कि उन्होंने पुतिन को वोट दिया उन्होंने सोवियत संघ के विघटन के बाद की गम्भीर स्थिति से राष्ट्र को निकालने को लेकर उनकी सराहना की

कई मतदान केंद्रों पर माहौल उत्साहजनक रहा लेकिन नवलनी ने मतदान का बहिष्कार करने का अनुरोध किया गैरकानूनी प्रदर्शन करने को लेकर वह 30 दिनों तक कारागार में रहे उन्होंने 33,000 से अधिक चुनाव पर्यवेक्षकों को तैनात किया उनकी टीम ने मतदान को पुतिन की फिर से नियुक्ति के लिए सुनियोजित प्रक्रिया बताया

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   चाइना ने मालदीव मुद्दे पर हिंदुस्तान व चाइना की विवाद
Loading...
loading...