Wednesday , September 26 2018
Loading...
Breaking News

2025 तक टीबी मुक्त करने का उद्देश्य

नई दिल्ली: धूम्रपान करने वाले लोग अगर खांसते रहते हैं तो उन्हें टीबी का टेस्ट कराना चाहिएतंबाकू के प्रयोग  धूम्रपान करने वालों के आस-पास रहने वाले लोगों में टीबी का खतरा बढ़ जाता है इससे जान को खतरा हो सकता है केंद्रीय सेहत और परिवार कल्याण मंत्रालय के ‘कफ’ अभियान में इसे प्रमुखता से बताया गया है इस बीमारी की पहचान करने में सबसे ज्यादा कठिनाई इस बात की होती है कि धूम्रपान करने वाले लोग सोचते है कि खांसी उन्हें धूम्रपान की वजह से हो रही है इस अभियान के जरिए लोगों को प्रोत्साहित किया जाएगा कि वह चिकित्सक से मिलकर यह पक्का करें कि लगातार होने वाली खांसी कहीं टीबी का इशारा तो नहीं है

:2016 में टीबी से मरें 432,000 भारतीय
वर्ष 2016 में टीबी से 432,000 हिंदुस्तानियों की मृत्यु हुई थी यानी कि प्रतिदिन 1183 से ज्यादा लोग थे गवर्नमेंट का उद्देश्य है कि दुनियाभर में वर्ष 2030 टीबी उन्मूलन से पांच वर्ष पहले हिंदुस्तान से टीबी वर्ष 2025 तक समाप्त हो जाए इस अभियान को इस तरह डिजाइन किया गया है, जिससे टीबी उन्मूलन में मदद मिलें, लोगों को धूम्रपान छोड़ने के लिए प्रोत्साहित हो  समय पर टीबी की पहचान और उपचार हो इसे वाइटल स्ट्रेटजी के तकनीकी सहायता की मदद से विकसित और कार्यान्वित किया गया था

Loading...

वाइटल स्ट्रेटजी के प्रेजिडेंट और चीफ एग्जिक्यूटिव अधिकारी जोस ल्युस केस्ट्रो ने कहा, ‘भारत में ज्यादातर टीबी से होने वाली मृत्यु आर्थिक उत्पादकता वाले युवा वयस्कों की होती है यह 30-69 वर्षकी आयु के लोगों में होने वाली मृत्यु के शीर्ष पांच कारणों में एक है हिंदुस्तान में तंबाकू महामारी की तरह इसके बोझ को बढ़ा रहा है ‘ केस्ट्रो ने कहा, ”कफ’ अभियान की मदद से वर्ष 2025 तक टीबी को समाप्त करने का उद्देश्य है  इस मकसद को पूरा करने के लिए लोगों को धूम्रपान छोड़ने  लगातार खांसने वाले स्मोकर्स  उनके आसपास खांसते रहने वाले लोगों को चिकित्सक से मिलकर सलाह लेने के लिए प्रोत्साहित करेंगे यह जिंदगी बचाने वाला संदेश है ‘

loading...

:

17 भाषाओं में किया जाएगा प्रचार 
जब वर्ष 2017 में पहली बार विश्व तंबाकू दिवस पर ‘कफ’ अभियान लांच किया गया था, तब संसारमें हिंदुस्तान पहला ऐसा राष्ट्र था जो राष्ट्रीय स्तर पर तंबाकू नियंत्रित करने का अभियान चला रहा था पूरे हिंदुस्तान में ‘कफ’ अभियान की पहुंच हो, इसके लिए दस दिन तक 17 भाषाओं में इसे प्रसारित किया जाएगा ये दो सप्ताह तक सभी प्रमुख डिजिटल प्लेटफॉर्म जैसकि यूट्यूब, फेसबुक, हॉटस्टार  वूट पर चलाया जाएगा  यह सोशल मीडिया कैंपेन द्वारा समर्थित है

Loading...
loading...