Loading...

अंडे का एक ऐसा भाग जो आपको पहुंचा सकता है नुकसान

नई दिल्ली: ब्रेकफास्ट में अंडा सबसे ज्यादा लोकप्रिय है। अंडे को चाहे आप उबाल कर खाएं, या फिर ऑमलेट बनाकर। लेकिन क्या आप जानते हैं कि अंडे का एक ऐसा भाग है जो आपको नुकसान पहुंचा सकता है, जो हैं अंडे की सफेदी। इसका सेवन आपकी बॉडी पर कई तरह के दुष्प्रभाव डालता हैं। जिससे आपकी बॉडी को नुकसान पंहुचता हैं। इसके सेवन से बॉडी में कई अन्य तरह की एलर्जी व समस्याएं भी हो जाती है।Image result for अंडे

1. एलर्जी में रहें दूर
कुछ लोगों को अंडे के सफेद भाग से एलर्जी होती हैं। लेकिन इसका पता लगाना सरल नहीं हैं, इसके लक्ष्ण बॉडी पर चकत्ते बनना, स्कीन में सूजन व लाल होना, ऐंठन, दस्त, खुजली व आंखों में पानी भरना आदि हैं, जिससे अंडे से हुई एलर्जी का पता लगाया जा सकता है। अंडे की सफेदी से लोगों को सांस लेने में तकलीफ होने लगती है, रक्तचाप में गिरावट आ जाती है व बेहोशी जैसा महसूस होने लगता है।

यह भी पढ़ें:   शुगर और कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने से रोकता है मशरूम

2. बायोटिन की कमी
अंडे का सफेद भाग खाने से बायोटिन की कमी हो जाती हैं। बायोटिन की कमी को विटामिन B7 व विटामिन H भी कहते हैं। अंडे के सफेद भाग में मौजूद एब्यूमिन के सेवन से बॉडी को बायोटिन अवशोषित करने में कठिनाई होती है।
जिसके कारण स्कीन संबंधित समस्याएं होती हैं, जिससे बच्चों की स्कीन पर रैशेज व व्यस्कों में सेबोरेहिक डर्मेटाइटिस की समस्या होती हैं।

इससे मांसपेशियों में दर्द, बालों का झड़ना जैसी परेशानियां भी होने लगती हैं। अंडे के सफेद भाग में मौजूद एब्यूमिन का अत्यधिक सेवन करने से बॉडी को बायोटिन अवशोषित करने में कठिनाई होती है।

Loading...
loading...

3. प्रोटीन की अत्यधिक मात्रा
अंडे के सफेद भाग में प्रोटीन की अत्यधीक मात्रा होती हैं, जिस कारण किडनी की समस्या से ग्रसित आदमी के लिए हानिकारक होता हैं। क्योंकि किडनी की समस्या के कारण लोगों में ग्लोमेरूलर फिल्टरेशन रेट(जीएफआर) की मात्रा कम होती हैं।
जीएफआर एक तरह से तरल पदार्थ की प्रवाह दर होती है जो किडनी को फिल्टर करती हैं। पर अंडे के सफेद भाग में मौजूद प्रोटीन जीएफआर की मात्रा कम कर देता हैं।

यह भी पढ़ें:   11 दिनों तक संरक्षित रखा जा सकता है कॉर्निया

4. साल्मोनेला बैक्टीरिया से दूषित
अंडे का सफेद भाग साल्मोनेला से दूषित भी हो सकता हैं। साल्मोनेला एक ऐसा बैक्टीरिया है जो कि मुर्गियों की आंतों में पाया जाता है. यह अंडे के बाहरी आवरण व उसके अंदर भी पाये जाते हैं. साल्मोनेला को समाप्त करने के लिए इन्हें ज्यादा देर तक व ज्यादा तापमान पर पकायें. अंडे के ऊपरी हिस्से व कम उबले हुये अंडों में भी बैक्टीरिया मौजूद रहते हैं.

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
Loading...
loading...