Loading...

E-Waste की वजह से भूमिगत जल हो रहा है दूषित

अगर हम आपसे ये कहें कि आप जो पानी पीते हैं उसमें कम्प्यूटर का Keyboard घुला हुआ है तो शायद आपको इस बात पर विश्वास नहीं होगा। लेकिन हकीकत ये है कि जिस पानी को आप पीते हैं उसमें सिर्फ़ कंप्यूटर का Keyboard ही नहीं, बल्कि कंप्यूटर का Mouse, मोबाइल फोन, हेडफोन व ईयरफोन भी घुला हुआ है । आप बहुत सारे Electronic Gadgets का प्रयोग करते होंगे । बेकार हो जाने के बाद आप इन चीज़ों को फेंक देते होंगे लेकिन आपने कभी ये नहीं सोचा होगा कि ये Electronic कचरा। । पीने के पानी को भी दूषित कर सकता है। आज हमने E-Waste व पानी पर उसके दुष्प्रभाव का DNA टेस्ट किया है । ये विश्लेषण आपकी स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है ।Image result for E-Waste की वजह से भूमिगत जल हो रहा है दूषित

Zee News की टीम ने एक विश्वविद्यालय के शोधपत्र का DNA टेस्ट किया है । जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने दिल्ली में मौजूद E-Waste के प्रभाव का अध्ययन किया है । इस शोध में ये पता चला है कि E-Waste की वजह से भूमिगत जल यानी Ground Water दूषित हो रहा है । अगर आप भूमिगत जल का प्रयोग करते हैं तो हो सकता है कि उसमें Heavy Metals हों । आपके पानी में कॉपर, लेड, कैडमियम, क्रोमियम व ज़िंक भी घुला हो सकता है । मिट्टी की ऊपरी व निचली परत में भी इन धातुओं की मात्रा में सैकड़ों गुना इज़ाफ़ा हुआ है ।

यह भी पढ़ें:   मोहम्मद नशीद की हिंदुस्तान से सैन्य दखल की मांग

इस वजह से पेड़-पौधों, सब्ज़ियों व फलों में भी E-Waste का ज़हर घुल रहा है । दुख की बात ये है कि इस समस्या की तरफ कोई भी ध्यान नहीं दे रहा है । आपको जानकर हैरानी होगी कि हमारे राष्ट्र में। । संसार भर के E Waste.। को ठिकाने लगाया जाता है। हिंदुस्तान Superpower बनने के ख्वाब देख रहा है लेकिन सच्चाई ये है कि अमेरिका, चाइना व यूरोप के बहुत सारे राष्ट्र अपना E Waste हमारे राष्ट्र में Dump कर रहे हैं । सवाल ये है कि ऐसा क्यों हो रहा है। । हम इतने मजबूर क्यों हैं ? क्या विदेशों से Import किए जाने वाले इलेक्ट्रॉनिक कचरे के प्रति हम जागरूक नहीं है ?

Loading...
loading...

हमारे पास जो आंकड़े हैं उनके मुताबिक राष्ट्र में E-Waste के कुल आयात का 42 फीसदी अमेरिका से हो रहा है । इसके अतिरिक्त हम China से 30 प्रतिशत, यूरोप से 18 फीसदी व ताइवान, साउथ कोरिया व जापान जैसे राष्ट्रों से 10 फीसदी इलेक्ट्रॉनिक कचरा आयात कर रहे हैं ।

यह भी पढ़ें:   आतंकवाद का समर्थन करके कोई देश अमेरिका का दोस्त नहीं हो सकता

इलेक्ट्रॉनिक gadgets में सोने व चांदी सहित कई कीमती धातुएं होती हैं। । व बहुत सी ऐसी चीज़ें होती हैं। । जिनका प्रयोग दोबारा किया जा सकता है। इसलिए हिंदुस्तान में ये अपने आप में एक असंगठित उद्योग बन चुका है। । व E Waste को Dispose करने वाले लोगों में अब भी जागरूकता की कमी है। लंबे समय से E Waste के साथ लापरवाही हो रही है। । व अब इसका असर। । राष्ट्र के कुछ हिस्सों की मिट्टी व पानी पर पड़ने लगा है। पानी व मिट्टी में ख़तरनाक केमिकल मिलने की वजह से पौधे भी मुरझा जाते हैं। । ऐसे में सोचिए कि इंसानों के बॉडी पर इसका क्या प्रभाव पड़ता होगा?

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
Loading...
loading...