Loading...

मेनका गांधी : स्त्रियों की सुरक्षा के लिए कुछ व कदम उठाने की आवश्यकता

बसों में सीसीटीवी लगाने से स्त्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित नहीं की जा सकती. बसों में स्त्रियों से छेड़छाड़ होती है, लेकिन कैमरा एक स्थान लगा होता है. सीसीटीवी भीड़भाड़ में छेड़छाड़ को रोकने में नाकाफी है. सीसीटीवी से बलात्कार को नहीं रोका जा सकता है, क्योंकि यह भीड़भाड़ वाले इलाकों में नहीं होते हैं. यह बात ने सोमवार को निर्भया फंड से सीसीटीवी लगाने संबंधी सवाल पर कही.Image result for मेनका गांधी : स्त्रियों की सुरक्षा के लिए कुछ व कदम उठाने की आवश्यकता

दिल्ली में मेनका गांधी ने कहा, स्त्रियों की सुरक्षा के लिए कुछ व कदम उठाने की आवश्यकता है. बसों में लगने वाले सीसीटीवी का रिकॉर्ड सिर्फ तीन दिन तक रहता है व बसों में लाखों यात्री सफर करते हैं. यदि कोई महिला बाद में शिकायत करती है तो उक्त आरोपी को पकड़ना कठिन होता है.

यह भी पढ़ें:   इस बार डीयू बोला 'वी वांट रॉकी'

भीड़ में सीसीटीवी की सही फुटेज भी नहीं आती है. वहीं, भीड़ के दौरान किसने छेड़छाड़ की, उसका भी पता नहीं चल पाता है. राजस्थान टूरिज्म की बसों में सीसीटीवी लगाए गए थे, लेकिन उसका कोई खास लाभ नहीं हुआ.

Loading...
loading...

मेनका ने कहा, वह गवर्नमेंट को सुझाव देंगी कि बचपन में यदि किसी बच्ची के साथ यौन शोषण या छेड़छाड़ होती है तो पीड़िता कभी भी शिकायत करवा सकेगी. इसके लिए बाकायदा सीआरपीसी में परिवर्तन किया जाएगा. बता दें कि दिल्ली गैंगरेप 2012 के बाद गवर्नमेंट ने स्त्रियों की सुरक्षा के लिए निर्भया फंड प्रारम्भ किया था. इसमें बसों में सीसीटीवी लगाना भी शामिल था.

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   हिंदुस्तान के दौरे पर हैदराबाद पहुंचे ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी
Loading...
loading...